- The Legend Shayar

Mirza Ghalib birth day The legend of rekhta- मिर्ज़ा ग़ालिब

Mirza Ghalib birthday The legend of rekhta- मिर्ज़ा ग़ालिब 

Mirza Ghalib birth day The legend of rekhta- मिर्ज़ा ग़ालिब
Mirza Ghalib birth day The legend of rekhta- मिर्ज़ा ग़ालिब 
                 हैं और भी दुनिया में सुखनवर बहोत अच्छे
          कहते हैं कि ग़ालिब का है अंदाज़े बयां और
 मिर्ज़ा गालिब रेख्ता उर्दू के उस्ताद शायर का दर्जा रखते हैं, मिर्जा गालिब का जन्म 27 दिसंबर 1797 में आगरा के एक सैन्य परिवार में हुआ था। छोटी सी उम्र में गालिब के पिता की मौत हो गई जिसके बाद उनके चाचा ने उन्हें संभाला लेकिन उनका साथ भी ज्यादा दिन नहीं रहा। जिसके बाद उनकी देखभाल उनके नाना-नानी ने की। मिर्जा गालिब का विवाह 13 साल की उम्र में उमराव बेगम से हो गया था। जिसके बाद वह दिल्ली आ गए औऱ यही रहें। मिर्जा गालिब ने इश्क की इबादत हो या नफरत या दुश्मनों से प्यार सभी शायरी में दर्द छलकता है। मिर्जा गालिब को मुगल शासक बहादुर शाह जफर ने अपना दरबारी कवि बनाया था। उन्हें दरबार-ए-मुल्क, नज्म-उद दौउ्ल्लाह के पदवी से नवाजा था। इसके साथ ही गालिब बादशाह के बड़े बेटे के शिक्षक भी थे। मिर्जा गालिब पर कई किताबें है जिसमें दीवान-ए-गालिब, मैखाना-ए-आरजू, काते बुरहान शामिल है। छोटी सी उम्र में गालिब के पिता की मौत हो गई जिसके बाद उनके चाचा ने उन्हें संभाला लेकिन उनका साथ भी ज्यादा दिन नहीं रहा। जिसके बाद उनकी देखभाल उनके नाना-नानी ने की। मिर्जा गालिब का विवाह 13 साल की उम्र में उमराव बेगम से हो गया था। जिसके बाद वह दिल्ली आ गए औऱ यही रहें। मिर्जा गालिब ने इश्क की इबादत हो या नफरत या दुश्मनों से प्यार सभी शायरी में दर्द छलकता है। मिर्जा गालिब को मुगल शासक बहादुर शाह जफर ने अपना दरबारी कवि बनाया था। उन्हें दरबार-ए-मुल्क, नज्म-उद दौउ्ल्लाह के पदवी से नवाजा था। इसके साथ ही गालिब बादशाह के बड़े बेटे के शिक्षक भी थे। मिर्जा गालिब पर कई किताबें है जिसमें दीवान-ए-गालिब, मैखाना-ए-आरजू, काते बुरहान शामिल है।
Mirza Ghalib birthday
Mirza Ghalib birthday The legend of rekhta
Mirza Ghalib Rakhta is the master of Urdu poetry and Urdu literature’s most iconic poets, Mirza Ghalib was born on 27 December 1797 in a legislative family of Agra today is the 221st birth day. At the young age, Ghalib’s father died, after which his uncle handled him, but he did not have too much time with them. After which she was taken care of by her maternal grandmother. Mirza Ghalib was married to Umrao Begum at the age of 13. After that, he came to Delhi and stayed away. Mirza Ghalib is worshiped by Ishq or love for hate or enemies, pain in all shayari. Mirza Ghalib was made a court poet by Mughal ruler Bahadur Shah Zafar. He was honored with the title of Durbar-e-Mulk, Najm-ud-Daulah. At the same time, Ghalib was the teacher of the king’s elder son. There are many books on Mirza Ghalib which include Dewan-e-Ghalib, Makhana-e-Arju, Kate Burhan. At the young age, Ghalib’s father died, after which his uncle handled him, but he did not have too much time with them. After which she was taken care of by her maternal grandmother. Mirza Ghalib was married to Umrao Begum at the age of 13. After that, he came to Delhi and stayed away. Mirza Ghalib is worshiped by Ishq or love for hate or enemies, pain in all shayari. Mirza Ghalib was made a court poet by Mughal ruler Bahadur Shah Zafar. He was honored with the title of Durbar-e-Mulk, Najm-ud-Daulah. At the same time, Ghalib was the teacher of the king’s elder son. There are many books on Mirza Ghalib which include Dewan-e-Ghalib, Makhana-e-Arju, Kate Burhan.

Mirza Ghalib remembered on his 221st birthday

mirza Ghalib Shayari in Hindi

                                निकलना ख़ुल्द से आदम का सुनते आए हैं लेकिन
                         बहुत बे-आबरू हो कर तिरे कूचे से हम निकले
mirza Ghalib Shayari in Hindi

                                                               दिल-ए-नादां, तुझे हुआ क्या है
                                                              आखिर इस दर्द की दवा क्या है

                                                    मेहरबां होके बुलाओ मुझे, चाहो जिस वक्त
                                                    मैं गया वक्त नहीं हूं, कि फिर आ भी न सकूं

                                                   या रब, न वह समझे हैं, न समझेंगे मेरी बात
                                                   दे और दिल उनको, जो न दे मुझको जबां और

                                                     कैदे-हयात बंदे-.गम, अस्ल में दोनों एक हैं
                                                 मौत से पहले आदमी, .गम से निजात पाए क्यों

                                                  मोहब्बत में नहीं है फ़र्क़ जीने और मरने का
                                              उसी को देख कर जीते हैं जिस काफ़िर पे दम निकले

                                              हज़ारों ख़्वाहिशें ऐसी कि हर ख़्वाहिश पे दम निकले
                                            बहुत निकले मिरे अरमान लेकिन फिर भी कम निकले

mirza ghalib ghazal



Mirza Ghalib birth day
Mirza Ghalib birth day 


                                                             दिल-ए-नादाँ तुझे हुआ क्या है
                                                            आख़िर इस दर्द की दवा क्या है

   हम हैं मुश्ताक़ और वो बेज़ार 
  या इलाही ये माजरा क्या है 

                                                   उन के देखे से जो आ जाती है मुँह पर रौनक़
                                                    वो समझते हैं कि बीमार का हाल अच्छा है

mirza ghalib ki shayari

कोई दिन गर ज़िंदगानी और है 
हमने अपने दिल  में ठानी और है 
देके ख़त मुँह देखता है नामाबर 
कुछ तो पैग़ामे ज़बानी और है 
Asif

                                                    

About rekhta.org.in

Read All Posts By rekhta.org.in

Leave a Reply