poetry about December

Poetry about December: दिसम्बर हिंदी शायरी

Poetry about December में आपका हमारे नए पोस्ट में स्वागत है, दिसम्बर को लोग पुराना साल जाने की याद में मनाते हैं खासकर ऐसे लोग जिनहोने किसी को इस दिसम्बर महीने में खो दिया हो और उसकी यादें दिसम्बर की सर्द रातों मों सुहाने मौसम के साथ बार बार दिल को दुख के साथ एक एहसास दिलाती रहती हैं उस प्रेमी की जो दिसम्बर की तरहा तन्हा छोड गया हो।

poetry about December के हमारे इस पोस्ट में आपको मिलेगे नए प् मोहब्बत  और दिल तो किसी की याद दिलाने वाले शेर जो कि बिल्कुल नये होंगे जिनका अंगरेज़ी में अनुवाद भी है। आप ईनको status. अगर आप इंटरनेट पर सर्च करते है poetry for December

Poetry about december

जिसे मैं भूल बैढा था वो अक्सर याद आता है 

 मेरा दिल तोडने वाला सितमग़र याद आता है 

 वही मौसम, वही गिरजा, वही लम्हात फिरसे हैं

 जो उसके साथ बीता, वो दिसम्बर याद आता है।

Poetry for December

Poetry about December प्यार और आत्मा बंधन के बारे में सबसे दुखद बात यह नहीं मानती कि यह असली है। मेरे दिल को फिर से झूठ बोलने की गलती थी। मैं सोच सकता हूं कि तुम मुझे कभी नहीं चाहते थे।

DARD APNA KISE SUNAOGE

               IBNE MARIYAM KAHIN NA PAOGE

              KOI MARHAM TALASH KAR LENA

  DIL KISI SE AGAR LAGAOGE

Poetry for December

खुमार है मगर इतना खुमार थोड़ी है

      हमारे दिल पे तेरा इख़्तियार थोड़ी है

     मै मानता हूँ की दुनिया तेरी दीवानी है

      तेरे दीवानों में मेरा शुमार थोड़ी है

December Shayari

khumar hai Magar itna khumar thodi hai

 

hamare dil pe tera ikhtiyar thodi hai

 

mai manta hun ki duniya teri deewani hai

   

tere deewanon me Mera shumar thodi hai

Poetry about December

Poetry about December में ईसा मसीह की पैदाइश भी होने के कारण आप सभी को को हैप्पी क्रिसमस डे आज २५ December है आज ही के दिन ईसा मसीह का जन्म दिन मनाया जाता है तो आओ हम सब खुशियां बांटें 

kisi ka dil dukhane ka koi saman mat lena

tum apne ishq ki khatir kisi ki jaan mat lena

agar mahfil me miljau, nazarandaz kar dena

kisi ke samne dilbar mujhe mujhe pahchan mat lena

December Shayari

Poetry about December 2019 in English

Welcome to our new post in Poetry about December, people celebrate December in the memory of the old year, especially those who lost someone in this December and their memories are again and again with the pleasant weather of December. Heart gives a feeling of sadness to the lover who has left the lonely place of December.

 poetry about December  What i missed was often missed

I remember my heartbroken love
 The same weather, the same church, the same moments is again.
The one who spent with him remembers December
Asif.

In this post of poetry for December, you will find new love and hearts that remind you of someone who will be completely new, which is also translated into English. You have your status. If you search the internet about poetry about December

https://www.youtube.com/watch?v=_Xwg8VN9FOg

Can you think that you never wanted me, Love?

The tragic thing about love and soul bond does not believe that it is real. There was a mistake of lying to my heart again This was December

What i missed was often missed

He started turning back on his promises
 
            He was disintegrating like a leaf in the fall
 
         The way I landed in my heart
 
                   He started descending from the heart

 

Poetry For December



वादों से अपने ऐसे मुकरने लगा था वो
            पतझर में पत्तियों सा बिखरने लगा था वो
    नज़रों से अपने दिल में उतरा था जिस तरह
वैसे ही  दिल से  उतरने लगा था वो
Asif.

 

Leave a Comment