Rahat indori Shayari collection in Hindi- राहत इंदौरी शायरी कलेक्शन

Rahat Indori उर्दू ग़ज़ल के विश्व प्रसिद्ध कवि का स्थान रखते हैं आधुनिक शायरों में Rahat इश्क़ पर शेर बहोत ही आसान शब्दों में शेर कहने का हुनर जानते हैं आज के यूवा राहत साहब को बहोत पसंद करते हैं, राहत इंदौरी उर्दू ग़ज़ल के ऐसे शायर हैं  जाे हर लफ्ज के साथ मोहब्बत की नई शुरुआत करते हैं, राहत इंदौरी वो कलाकार हैं जो अपने अंदाज में  इस उर्दू ग़ज़ल की कला को बखूबी अंजाम देते हैं।

आज की इस पोस्ट में रेख्ता डॉ राहत इन्दौरी की कुछ चुनिंदा ग़ज़लों के बारे में बात करेगा rekhta.org.in पर ऐसे ही बने रहिए और अपनी पसंदादा शायरी को फेसबुक Facebook, वहाट्स ऐप Whats App, टविट्टर Twitter, इंसटाग्राम Instagram पर फ्री Free में शेयर Share करें।

इश्क़ विश्क़ के सारे नुस्खे मुझसे सीखते हैं
ताहिर वाहिर, जौहर वौहर, मंज़र वंज़र सब

Rahat indori is a world-famous poet of modern Ghazal. In modern shayars rahat use
very easy words in Urdu Ghazal in his Urdu  Shayari words of the simple and easy Rahat indori is an Urdu, celebrity, lyricist, filmy songwriter, top Shayari, Dr. Rahat says also in his couplet.

Ishq wishq ke sare nuskhe mujhse sikhte hain
Tahir wahir, Jauhar wauhar manzar wanzar sab

today’s youth likes Rahat Sahab to be very addictions. In today’s post, some of Talk about Urdu Ghazals, stay same at rekhta.org.in and share free your favorite Shayari on Facebook, Watts App, Twitter, Instagram,

Read more about the rahat indori, famous poet, Urdu

Rahat indori Shayari

बुलाती है मगर जाने का नईं

ये दुनिया है इधर जाने का नईं
मेरे बेटे किसी से इश्क़ कर
मगर हद से गुजर जाने का नईं
सितारें नोच कर ले जाऊँगा
मैं खाली हाथ घर जाने का नईं
वबा फैली हुई है हर तरफ
अभी माहौल मर जाने का नईं
वो गर्दन नापता है नाप ले
मगर जालिम से डर जाने का नईं

Top Hindi Shayari of Famous Shayar Rahat Indori

मोम के पास कभी आग को लाकर देखूँ

सोचता हूँ के तुझे हाथ लगा कर देखूँ

कभी चुपके से चला आऊँ तेरी खिलवत में

और तुझे तेरी निगाहों से बचा कर देखूँ

मैने देखा है ज़माने को शराबें पी कर

दम निकल जाये अगर होश में आकर देखूँ

दिल का मंदिर बड़ा वीरान नज़र आता है

सोचता हूँ तेरी तस्वीर लगा कर देखूँ

तेरे बारे में सुना ये है के तू सूरज है

मैं ज़रा देर तेरे साये में आ कर देखूँ

याद आता है के पहले भी कई बार यूं ही

मैने सोचा था के मैं तुझको भुला कर देखूँ

राहत इंदौरी के कुछ चुनिंदा शेर Dr. Rahat Indori ke best Sher couplet

ये हादसा तो किसी दिन गुज़रने वाला था

मैं बच भी जाता तो इक रोज़ मरने वाला था

तेरे सलूक तेरी आगही की उम्र दराज़

मेरे अज़ीज़ मेरा ज़ख़्म भरने वाला था

बुलंदियों का नशा टूट कर बिखरने लगा

मेरा जहाज़ ज़मीन पर उतरने वाला था

मेरा नसीब मेरे हाथ काट गए वर्ना

मैं तेरी माँग में सिंदूर भरने वाला था

मेरे चिराग मेरी शब मेरी मुंडेरें हैं

मैं कब शरीर हवाओं से डरने वाला था

वफ़ा को आज़माना चाहिए था, हमारा दिल दुखाना चाहिए था

आना न आना मेरी मर्ज़ी है, तुमको तो बुलाना चाहिए था

हमारी ख्वाहिश एक घर की थी, उसे सारा ज़माना चाहिए था

मेरी आँखें कहाँ नाम हुई थीं, समुन्दर को बहाना चाहिए था

जहाँ पर पंहुचना मैं चाहता हूँ, वहां पे पंहुच जाना चाहिए था

हमारा ज़ख्म पुराना बहुत है, चरागर भी पुराना चाहिए था

मुझसे पहले वो किसी और की थी, मगर कुछ शायराना चाहिए था

चलो माना ये छोटी बात है, पर तुम्हें सब कुछ बताना चाहिए था

तेरा भी शहर में कोई नहीं था, मुझे भी एक ठिकाना चाहिए था

कि किस को किस तरह से भूलते हैं, तुम्हें मुझको सिखाना चाहिए था

Rahat indori poetry in roman script

Bulati hai magar jane ka nai

Ye duniya hai idhar jane ka nai

Mere bête kisi se Ishq kar

Magar had se guzar jane ka nai

Sitare noch kar le jaunga

Mai khali hath ghar jane ka nai

Waba faili hui hai har taraf

Abhi mahol mar jane ka nai

Who garden napta hai nap le

Magar zalim se dar jane ka nai

Mom ke pas kabhi aag ko lakar dekhun

Sochta hunk ki tujhe hath laga kar dekhun

Kabhi chupke se chala jaun teri khilwat me

Aur tujhe teri nigahon se bacha kar dekhun

Maine dekha hai zamane ko sharaben peekar

Dam nkal jaye agar hosh me aa kar dekhun

Dil ka mandir bada veeran nazar ata hai

Sochta hun teri tasveer laga kar dekhun

Tere bare me suna ye hai ki tu suraj hai

Mai zara der tere saye me aa kar dekhun

Yad ata hai ki pahle bhi kai bar yu hi

Maine socha tha kabhi tujhko bhula kar dekhun

Ghazal in roman script

Ye hadisa to kisi din guzarne wala tha

Mai bach bhi jata to ik roz marne wala tha

Tere salooq teri aaghi ki umr daraz

Mere ajeez mera zakhm bharne wala tha

Bulandiyon ka nasha toot kar bikharne laga

Mera jahaz jameen par utarne wala tha

Mera naseeb mere hath kar gaye warna

Mai teri maang me sindoor bharne wala the

Mere chirag meri shab meri munderen hain

Mai kab sharer hawaon se darne wala tha

Wafa ko azmana chahiye tha

Humara dil dukhan chahiye tha

Ana na ana meri marzi hai

Tumko to bulana chahiye tha

Humari khwahish ek ghar kit hi

Use sara zamana chahiye tha

Meri aankhen kahan kin am hui thin

Samundar ko bahana chahiye tha

Jahan par pahuchna mai chahta hu

Wahan pe pahuch jana chahiye tha

Humar zakhm purana bhut hai

Charger bhi purana chahiye tha

Mujhse pahle wo kisi aur kit hi

Magar shayaran chahiye tha

Chalo mana ye choti baat hai

Par tumhe sab kuch batana chahiye tha

Tera bhi shahr me koi nahi tha

Mujhe bhi ek thikana chahiye tha

Ki kis ko kis trha se bhulte hai

Tumhe mujhko sikhana chhiye tha

Sar par bojh andhiyaron ka hai mola

Aur safar kohsaron ka hai mola

Dushman se to takkar li hai sau-sau bar

Saman abke yaron ka hai mola khair kare

Leave a Comment