नेता डॉ कृष्ण गोपाल दारा शिकोह

RSS नेता कृष्ण गोपाल ने दारा शिकोह Dara Shikoh को अच्छा मुसलमान कहा

संघ के कार्यक्रता RSS नेता कृष्ण गोपाल Dr. Krishn Gopal के अनुसार “दारा शिकोह Dara Shikoh भारत का सम्राठ बनता तो इस्लाम और फलता फूलता” इस कथन के अनुसार कुछ सवाल उढते हैं कि क्या औरंगज़ेब Aurangzeb एक क्रूर और कट्टरपंथी मुसलमान था? वहीं दूसरी तरफ rss नेता कृष्ण गोपाल के अनुसार दारा शिकोह Dara Shikoh उदारवादी और अच्छा मुसलमान था?

एक सवाल सबसे पहले ये उठता है कि क्या इस समय जब देश मंदी और बेरोज़गारी का शिकार होने को है ऐसी स्तिथी में संघ के नेताओं को मुसलमान नाम पर बात करने का क्या मतलब, हैं और देश का सर्वोत्तम न्यूज़ चैनस Aaj Tak आज तक पर अंजना ओम कश्यप, गौरव भाटिया AMU के स्कॉलर आदि ने कई ऐसे सवाल किये जिसके कारण स्थिति को समझने और फिर आगे फैसला करने को तय्यार रहना पडेगा देश की जनता को ऐसे मंदी के समय में इतिहास की बातों को दोहराने का क्या मतलब है क्या संघ और BJP भारतीय जनता पार्टी देश की आवाम का ध्यान भटकाना चाहते हैं ?

नेता डॉ कृष्ण गोपाल दारा शिकोह
नेता डॉ कृष्ण गोपाल दारा शिकोह

संघ RSS का अच्छे मुस्लिम के प्रति नरम नज़रिया महासचिव डॉ कृष्ण गोपाल

कृष्ण गोपाल ने ये भी कहा कि 600 साल हुकूमत करने वाले मुस्लिम खुद को खतरे में क्यों मानते हैं। वहीं केंद्रीय अल्पसंख्यक मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी Mukhtar Abbas Naqvi ने कहा कि देशभर में दारा की शिक्षाओं का प्रचार किया जाएगा जिससे भारतीय जन मानस में प्रेम, सहिष्णुता, और हर धर्म का सम्मान बढेगा।

दारा शिकोह साम्यवादी विचारधारा तथा उदारवादी था और आज के भारत को ऐसी विचारधारा कि ज़रूरत है परंतु औरंगजेब क्या वाकई में  एक क्रूर शासक था जिसने अपने समय में नरसंहार किया, मंदिरों को तोडवाया ये कुछ सवाल इतिहास के पन्नों में क़ैद हैं जिनका सही खुलासा करना बहोत ही मुश्किल हो सकता है

कृष्ण गोपाल जी नेे ये भी कहा कि कुछ लाख की जंसंख्या वाले पारसी, जैन, बौध्य नही डरते तो फिर 16-17 करोड मुस्लिम लोग अपने आप को खतरे में क्यों मानते हैं। कुछ लोग औरंगज़ेब को आतंकवादी के नाम से भी पुकारने लगे हैं वहीं दारा को राष्ट्रवादी कहा जा रहा है दारा शिकोह भारतीय संसकारों से सराबोर और सूफी संतों की शिक्षा का परिणाम है परंतु सच क्या है यह सवाल बहोत ही मायने रखता है। गोपाल ने यह भी कहा कि इस्लाम से जुडे लोगों ने इस देश को बहोत कुछ दिया परंतु कुछ लोगों ने इस्लाम को बदनाम कर दिया जिनमें औरंगज़ेब प्रमुख है।

औरंगज़ेब बनाम दारा शिकोह दोनो में कौन अच्छा मुसलमान डॉ कृष्ण गोपाल

rss नेता कृष्ण गोपाल
rss नेता कृष्ण गोपाल

Narrative से पुरानी बातें फिर से उखाडने का राजनीतिक और साम्प्रदायिक दोनो प्रकार से सही नही है क्योंकी अपने समय के कुछ अल्पसंख्यक समुदायों ने औरंगज़ेब को ग़लत साबित करने में कोई कसर नही छोडी और दारा के गुणगान करने में पूरी ताकत लगा दी सवाल यह उठता है कि क्या दारा शुकोह सत्ता के मिलने पर ऐसा हि रवैय्या रखता जैसा कि उसे दिखाया जा रहा है या फिर औरंगजेब से भी अधिक क्रूर शासक साबित होता सवाल यह भी है कि इन बातों को भजप अपने फायदे और मुस्मिमों में अलग गुट का निर्माण करने के लिए नया तरिका अपनाना चाहती है और अगले इलेक्शन की प्रष्ठभूमि तय्यार करना चाहती है।

Dara Shikoh दारा की विचार धारा और उनकी सोंच के अनुसार  विश्व बंधुत्व, हिंदू और इस्लाम धर्म के बीच शांति और विभिन्न धर्मों, संस्कृति और फिलॉसफी में मेलजोल चाहते थे

भारतीयता को हिंदुस्तानी बनाने का RSS का नज़रिया

आज कुछ ऐसे मुल्क जो ये चाहते हैं कि दुनिया में अम्न को मिटा दिया जाए और ऐसे मन्सूबों को अंजाम देने के लिए हमारे मुल्क के नौजवानों को मुलव्विस देखकर फिर मेरा मन ये सोंचने पे मज्बूर हो जाता है कि क्या है हिन्दुस्तान?

जब मैं एक हिन्दु भाई को एक मुसल्मान को नमाज़ के लिए मस्जिद तक पहुंचाता देखता हूं तब मेरा दिल जवाब देता है कि श्रि राम, और श्रि कृष्ण जैसे पाक लोगों की  सरज़मीन है हिन्दुस्तान सहीदों के लहू से सींचा बाग़ है हिनदुस्तानअल्लामा इक़बाल का ख़्वाब, टीपू सुल्तान की क़ुरबानी शहीद भगत सिंघ कि कुरबानी का विरसा है हिन्दुस्तान बाबाए क़ौम माहात्मा गांधी की मेहनत का समर है हिन्दुस्तान.

हिन्दुस्तान वो है जहां आज भि रानी लक्षमी बाई हर एक घर में मौजूद है जो अपने बेटे को जंग पर हंसते हंसते भेज देती है और ऐसी बेगंम हज़रत महल भी हैं जो अपने शहीद शौहर की लाश को हंसते हुए बोसा देती सोशल मीडिया Media पर नज़र आती हैं 

हिन्दुस्तान के एक किनारे कन्याकुमारि, पंजाब, गुजरात, महाराष्ट्र, राजिस्थान, यू. पी. आध्यात्म की नगरी बनारस, और  काश्मीर जैसा रंग बिरंगा गुल्दस्ता है हिन्दुस्तान और मुल्क फकत एक टुकडा ही नहीं ऐसा नज़रिया है जिसने पूरी दुनिया को सोंचने पर मज्बूर कर दिया।

दारा शिकोह गंगा जमनी तहज़ीब और साहित्य

आज के दौर की बात करूं तो साहित्य भारतीय समाज के हिंदू और मुस्लिम दोनो के आपसी सम्बंधों गंगा जमनी Ganga Jamni Tehzeeb तहज़ीबों को और मज़्बूत करने वाली उर्दू शायरी Urdu Shayari Hindi की पंक्तियां नीचे उप्लब्ध हैं।

क्या दारा की सोच मीर तकी मीर के शेर से मिलती थी 

“उसके फरोगे हुस्न से झमके है सबमे नूर
शम्मए हरम हो या कि दिया सोमनाथ का” 

मरहूम अन्वर जलालपूरि के लफ्ज़ों मे कहूतो यूं होगा..कि

“अनेकता में जहां एकता मिले अन्वर

हम उस दयार को हिन्दुस्तान कहते हैं”

एकता की इसि मिसाल को डाँ. राहत इन्दौरी ने कुछ यूं कहा है

“नमाज़े मुस्तकिल पहचान बन जाती है चहरे की

तिलक जिसतरह माथे पर कोई हिन्दू लगाता है”

जो दिल से दिल तलक पहुंचे वही जादू समझता है।

मोहब्बत, प्यार से फैली हुई खुश्बू समझता है।

ये हिंदुस्तान है साहब, ये यकजहती का मरकज़ है।

यहां मुस्लिम की बेटी को बहन हिंदू समझता है।

मुसल्मां भी यहां गीता के अश्लोकों को पढते हैं

कुराने पाक की आयात को साधू समझता है।

इसी गंगा जमनी तहज़ीब की आवश्यक्ता को पूरा करने के लिए हिंदी साहित्य और उर्दू अदब दोनो ने ही योगदान दिया और आज भारत में ऐसी रचनाएं उप्लब्ध हैं जो भारतीयता को हिंदुस्तानी तहज़ीब की ओर ले जा सकती है। हर धर्म का सम्मान करने वाले व्यक्ति को औरंगजेब ने मृत्यु दे दी मगर ऐसा क्यों हुआ इस पहलू पर भी कोई रौशनी डाले।

RSS नेता कृष्ण गोपाल Krishna Gopal calls Dara Shikoh a good Muslim

According to Krishn Gopal “If Dara Shikoh Dara Shikoh would have become the Emperor of India, Islam would have flourished” Some questions arise as to whether Aurangzeb Aurangzeb was a cruel and fundamentalist Muslim? On the other hand, according to rss leader Krishna Gopal Dara Shikoh Dara Shikoh was a moderate and good Muslim?

One of the first questions that arises is whether at this time when the country is going to be the victim of recession and unemployment, in such a situation, what is the meaning of the Sangh leaders talking on the name of Muslim, and the best news channel of the country Aaj Tak on Aajna Om Kashyap, Gaurav Bhatia scholar of AMU etc. asked many such questions, due to which the people of the country will have to be ready to understand the situation and then decide further. BJP To repeat to drive the Union and public in country?

leader Krishna Gopal! soft approach towards good Muslim

Krishna Gopal कृष्ण गोपाल also said why the 600-year-old Muslims consider themselves in danger. At the same time, Union Minority Minister Mukhtar Abbas Naqvi Mukhtar Abbas Naqvi said that Dara’s teachings will be promoted throughout the country, which will increase love, tolerance, and respect for every religion in the Indian public mind.

Krishna Gopal also said why the 600-year-old Muslims consider themselves in danger. At the same time, Union Minority Minister Mukhtar Abbas Naqvi Mukhtar Abbas Naqvi said that Dara’s teachings will be promoted throughout the country, which will increase love, tolerance, and respect for every religion in the Indian public mind.

Dara Shikoh was a communist ideologue and liberal and today’s India needs such an ideology, but was Aurangzeb really a cruel ruler who committed genocide in his time, demolished temples, these are some of the questions incarcerated in the pages of history Can only be difficult.

Krishna Gopal ji also said that Parsis, Jains, Buddhists with few lakhs of population are not afraid, then why do 16-17 crores Muslims consider themselves in danger. Some people have also started calling Aurangzeb as a terrorist, while Dara is being called a nationalist. Dara Shikoh is a result of the education of the Sufis and Sufis and saints from the Indian world, but the question is very important.

Gopal also said that people associated with Islam gave a lot to this country but some people discredited Islam of which Aurangzeb is prominent.

Who is a good Muslim in both Aurangzeb vs Dara Shikoh, Dr. Krishna Gopal

Reverting the old things from the narrative is not right in both political and communal ways as some minority communities of their time left no stone unturned to prove Aurangzeb wrong. The question arises as to whether Dara Shukoh would have the same attitude as he is being shown as power or would prove to be a more cruel ruler than Aurangzeb. The question is whether these things are used for their own benefit and different groups in the Muslims. To build, he wants to adopt a new way and wants to prepare the background for the next election.

According to कृष्ण गोपाल Dara Shikoh Dara’s stream of thought and his thinking, he wanted world fraternity, peace between Hindu and Islam religion and socializing in different religions, culture and philosophy.

RSS’s view of making Indianness Hindustani

Today, there are some countries who want the amn in the world to be eradicated, and to execute such thoughts, the youth of our country, after seeing ivolve, then my mind gets confused thinking what is Hindustan.

When I see a Hindu brother leading a Muslim to the Masjid for prayers, my heart responds that Pakistan is the land of people like Shri Ram, and Shri Krishna. Hindustan is a garden watered by blood of Hindus, the dream of Hindustan Allama Iqbal, Tipu The sacrifice of the Sultan, martyr Bhagat Singh, is the antithesis of the sacrifice of Hindustan Baba, India is the occasion of the hard work of Mahatma Gandhi.

Hindustan is where Bhani Rani Lakshmi Bai is present in every house, who sends her son laughing at the battle and there are also the unsuspecting Hazrat Mahal who used to make her martyr husband’s corpse laugh and appear on social media media.

Kanyakumari, Punjab, Gujarat, Maharashtra, Rajisthan, U.P, on one side of India. The city of P. Spirituality is a colorful Guldasta like Banaras and Kashmir, Hindustan and Mulk Fakat is not only a piece of mind which has made the whole world think.

Dara Shikoh Ganga Jamani Tehzeeb and Literature. RSS कृष्ण गोपाल

Talking about today’s era, the lines of Urdu Shayari Urdu Shayari Hindi, which strengthen the relationship between Ganga Jamni Tehzeeb, the relationship between Hindu and Muslim both of Indian society are available below.

Both Hindi literature and Urdu Adab contributed to fulfill the need of this Ganga Jamani Tehzeeb and today there are such compositions in India which can lead Indianism to Hindustani Tehzeeb. Aurangzeb gave death to a person who respected every religion, but shed some light on the aspect of why this happened.

Leave a Comment