- The Legend Shayar

Shayari ka Khuda Meer-शायरी के ख़ुदा मीर

 Meer-one of the greatest shayars of Urdu, is called Shayari’s god. It is said that when Ghalib heard of a miracle of a fakir, his mouth turned out to be unconscious, ‘You are not the only one of the master, Ghalib, say there was no mirror in the past.’ These three Khusa-e-Sukhan Mir’s three najmeng
मीर उर्दू के सबसे महान शायकों में से एक, शायरी के भगवान कहलाता है। ऐसा कहा जाता है कि जब गालिब ने एक फकीर के चमत्कार के बारे में सुना, तो उसका मुंह बेहोश हो गया, ‘आप गालिब के स्वामी में से एकमात्र नहीं हैं, कहें कि अतीत में कोई दर्पण नहीं था।’ ये तीन खुसा-ए-सुखान मीर के तीन नजमेन्ग
Shayari ka Khuda Mir-शायरी के ख़ुदा मीर
मीर
पत्ता-पत्ता बूटा-बूटा हाल हमारा जाने है
जाने न जाने गुल ही न जाने, बाग़ तो सारा जाने है
आगे उस मुतक़ब्बर के हम ख़ुदा ख़ुदा किया करते हैं
कब मौजूद ख़ुदा को वो मग़रूर ख़ुद-आरा जाने है
आशिक़ सा तो सादा कोई और न होगा दुनिया में
जी के ज़िआं को इश्क़ में उस के अपना वारा जाने है
चारागरी बीमारी-ए-दिल की रस्म-ए-शहर-ए-हुस्न नहीं
वर्ना दिलबर-ए-नादां भी इस दर्द का चारा जाने है
क्या क्या फ़ितने सर पर उसके लाता है माशूक़ अपना
जिस बेदिल बेताब-ओ-तवाँ को इश्क़ का मारा जाने है
आशिक़ तो मुर्दा है हमेशा जी उठता है देखे उसे
यार के आ जाने को यकायक उम्र दो बारा जाने है
Leaflet
Do not let go, do not forget, the garden is the whole house
Next we do that goddess of the goddess
When the present person is going to go mad
Hopefully, nobody else will be in the world
Jee ki jiyan ki Ishq ki ki apni vrara hai
Paragari Illima-e-Dil’s Rasam-e-city-e-Husnn
Varna Dilbar-e-Nadan is also going to feed this pain
What does he bring on his head
The idiot who is going to kill Ishq
Hope is dead, always alive, see him
The arrival of the man has to be age two to twelve
आसिफ